साथी वो जो छूट गये

Aaditya Tiwari
1 min readOct 11, 2017

निकले थे जो संग में अपने

साथी वो कुछ छूट गए

कुछ मिले सहज़ चलते फिरते

कुछ बिछड़ गए जुड़ते जुड़ते

कुछ बात नहीं अब करते हैं

कुछ हम भी थोड़ा अकड़ते हैं

कुछ उनकी भी मजबूरी थी

कुछ तो सीना ज़ोरी थी

जो बातें वो सब होती थी

कुछ कहती थी, कुछ सुनती थी

कुछ शब्द कहीं जो कम पड़ते

वो नज़रें पूरा करती थी

वो लोग कहीं जो छूटे हैं

यादों में अब भी आते हैं

बहते बहते हवा संग

कोने में किसी टकराते हैं

सवाल है ये, उम्मीद भी की

चलते फिरते जब मिलेंगे वो

शब्दों से तो सब करते हैं

नज़रों से भी बतला लेंगें?

यादों की उलझी हुई गुत्थी

क्या बातों से सुलझा लेंगे!

--

--

Aaditya Tiwari

शब्द के आडम्बरों में अर्थ मेरा खो न जाये. OSD to Sh @pemakhandubjp| @TeachForIndia | @indfoundation | @ColumbiaSIPA |Quizzer|Like to write poems|Views personal